जन्मदिन विशेष - मंत्री प्रद्युमन के सफाई अभियान की राष्ट्रीय स्तर पर गूंज


 

 

                                जन सेवा की बने मिशाल 

 

                                     सिंधिया एवं प्रद्युमन 

 

सुनहरा संसार 

मप्र - पहली जनवरी को ग्वालियर में कांग्रेसियों द्वारा अपने नेता पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया एवं उनके चहेते मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर का एक साथ सादगी से रक्त दान एवं ठंड से परेशान गरीब लोगों को कंबल उड़ा कर जनसेवा के माध्यम से जन्मदिन मनाया गया।


कांग्रेसजनों द्वारा दोनों नेताओं का जन सेवा के माध्यम से जन्मदिन मनाना निश्चित रूप से अपने आप में अनूठा रहा, जिसमें किसी शोर शराबे और दिखावे को स्थान न देकर गरीब और जरूरतमंदों की पीड़ा को समझा गया और उनकी सेवा करके कार्यकर्ताओं ने अपने नेताओं की दीर्घायु की कामना करते हुए उनके प्रति अपनी भावनाओं को व्यक्त किया।

पूर्व केंद्रीय मंत्री श्री सिंधिया की बात करें तो  किशोरावस्था में एक हादसे में उनके पिता कैलाश वासी माधव राव सिंधिया की मृत्यु हो जाने के बाद अपने पिता के जन सेवा के अधूरे सपने को पूरा करने के लिए राजनीति में आना पड़ा। यदि यह कहा जाए कि ज्योतिरादित्य की राजनीतिक शुरुआत के समय  जानकर उनके राजनीतिक सफर को लेकर उतने आश्वस्त नहीं थे जितने कि उनके पिता से, लेकिन समय के साथ आगे बढ़ते हुए इस युवा ऊर्जावान नेता ने तमाम अटकलों को तोड़ते हुए न सिर्फ कांग्रेस पार्टी में मुकम्मल स्थान हासिल किया बल्कि अपनी स्वच्छ छवि और बेवाक तर्क संगत शैली के कारण विरोधियों को भी कायल कर दिया। यही नहीं मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव  प्रचार की कमान सिंधिया को सौंपी गई तो उन्होंने अपनी ऊर्जा और ओजस्वी भाषण शैली का लोहा मानने के लिए लोगों को विवश कर दिया और कांग्रेस को 15 साल के सत्ता बनवास से मुक्ति मिली।

इसे संयोग ही कहेंगे कि इसी दिन उनके सिपाही और मध्यप्रदेश सरकार में खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री प्रद्युमन सिंह तोमर का भी जन्मदिन पड़ता है। सर्वविदित है कि युवा राजनीति से ही प्रद्युमन सिंह तोमर ने कैलाश वासी माधव राव सिंधिया को अपना आदर्श माना है, तो अब ज्योतिरादित्य सिंधिया के मार्गदर्शन में अपने आदर्श पुरुष द्वारा जन सेवा की रह गई अधूरी इच्छाओं को पूरा करने में कदम ताल कर रहे हैं। यही कारण है कि कभी सर सभ्य उप नगर ग्वालियर में उद्योग बंद होने के बाद यहां की आर्थिक स्थिति इतनी खराब हो गई कि लोगों के लिए महंगा इलाज मुश्किल हो गया। क्षेत्र की जनता की इस पीड़ा को लेकर प्रद्युमन सिंह तब से आवाज उठा रहे हैं जब वे विधायक भी नहीं थे। प्रद्युमन के इस जज्बे की जनता ने कदर करते हुए उन्हे अपना मुखिया चुना तो सबसे पहले उन्होंने अपने नियंत्रण वाले विभाग में गरीबों के हितों पर डांका डाल रहे कालाबाजारियों को सबक  सिखाया और गरीबों का हक वास्तविक लोगों तक पहुंचाने का बीड़ा उठाया। वहीं उप नगर ग्वालियर के हजीरा अस्पताल और बिरला नगर प्रसूति गृह को आधुनिक तकनीक से सुसज्जित कराया, जहां हर गरीब आमजन घर के नजदीक बैहतर इलाज करा सके।

 

    संदेश-   गंदगी में उतरे बगैर गंदगी साफ नहीं होती

 


केंद्र में सरकार बनाने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को स्वच्छ बनाने के लिए सांकेतिक झाड़ू लगाते हुए देश को स्वच्छता का संदेश दिया था। उसके बाद देश में सांकेतिक स्वच्छता संदेश का ट्रेंड सा चल गया। लेकिन मप्र सरकार के मंत्री प्रद्युमन सिंह तोमर ने गांधीगीरी करते हुए नालों में कूद कर वास्तविक रूप से सफाई करके लोगों के सामने जो मिशाल पेश की उसकी गूंज राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर तक जा पहुंची। मंत्री तोमर ने एक मिशन के तौर पर लोगों में स्वच्छता के प्रति जागरूकता विकसित करने के लिए प्रदेश के जिस इलाके में दौरा किया, वहां पर गंदगी देखकर उन्होंने मंत्री होने के नाते अधिकारियों को निर्देश देने के बजाय स्वयं फावड़ा उठाया। हालांकि मंत्री तोमर द्वारा चलाए गए वास्तविक सफाई अभियान को लेकर सवाल भी उठाए गए, तो विपक्ष ने इसे नोटकीं और अधिकारियों पर पकड़ न होना करार दिया। लेकिन जन सेवा की धुन पर सवार इस जन सेवक ने किसी बात की परवाह किए बगैर अपने लक्ष्य को आगे रखा जिसका परिणाम यह हुआ कि एक के बाद एक सेंकड़ों लोग वास्तविक सफाई अभियान से न सिर्फ जुड़े बल्कि स्वच्छता सर्वेक्षण 2019 के सर्वे में देश के 25 शहरों में मप्र के आठ जिलों ने  स्वच्छता की अग्रणी पंक्ति में स्थान पाने में कामयाबी हासिल की तो ग्वालियर ने छलांग लगाकर 13 नंबर पर कब्जा जमाया ।


 

 जन्म दिवस पर कार्यकर्ताओं ने किया रक्तदान, फल एवं कंवल वितरण 


अपने नेताओं के जन्मदिवस के उपलक्ष्य में हजीरा स्थित सिविल हॉस्पिटल में लोकसभा युवक कांग्रेस के महासचिव रामअवतार सिंह बैस के नेतृत्व में 21 लोगो ने जरूरतमंदों के लिए रक्तदान किया 

श्री बैस ने कहा कि हमारे आदर्श श्री सिंधिया एवं जन-जन के लाड़ले प्रद्युम्न सिंह  ने इस बार तय किया था कि जन्मदिन नही मनाएंगे। अपने नेताओं की सीख का सम्मान करते हुए कार्यकर्ताओं ने उनके प्रति अपनी चाहत और आस्था को दर्शाने के उसी जन सेवा का सहारा लिया जिसकी सीख उन्हें दी जाती है। नेता द्वे के जन्मदिन पर शहर में कई जगह  रक्तदान,कंबल वितरण केक काट कर सभी ने  दुआ की , कि उनके दोनों नेताओं को इतनी शक्ति मिले की यह इसी तरह प्रदेश व देश की सेवा करते रहे, इस अवसर पर रामअवतार सिंह बैस,डॉ सुभेन्द्र यादव,जितेंद्र भदौरिया,राहुल पटेल,शौरभ सक्सेना,रवि तोमर,सूरज परमार,राहुल छापरिया, विक्रम परिहार नवल कुशवाह,प्रदीप राजावत,राजकुमार शर्मा,अशोक राजावत,सुभम मांझी, गुड्डू तोमर,धीरज चौहान,बिक्रम पटेल आदि ने रक्तदान किया। 

 


Popular posts