नन्हे दिव्यांगों की प्रस्तुतियों से गूंजा मेला रंगमंच


 

सुनहरा संसार - 

ग्वालियर। शारीरिक रूप से कमजोर बच्चों मेला रंगमंच पर अपनी शानदार प्रस्तुति से साबित कर दिया कि मौका मिले तो वे किसी से कम नहीं हैं । 

 ऐसा ही नजारा मेला रंगमंच पर शनिवार रात देखने को मिला। अवसर था सक्षम संस्था एवं जिझौतिया ब्राह्मण समाज ग्वालियर द्वारा दिव्यांग बच्चों के लिए आयोजित कार्यक्रम का। इसमें इन बच्चों ने मनमोहक प्रस्तुतियां देकर साबित कर दिया कि वे भी किसी से कम नहीं हैं। 

    कार्यक्रम के मुख्य अतिथि विधायक मुन्नालाल गोयल ने कहा कि दिव्यांग लोगों को राष्ट्र की धारा में जोड़ना जुनून कहलाता है। ये काम डॉ आलोक पुरोहित कर रहे हैं। समाज में मौजूद दिव्यांगों में भी प्रतिभा की कमी नहीं है, लेकिन उन्हें प्रोत्साहित करने की जरूरत है। मेला उपाध्यक्ष डॉ. प्रवीण अग्रवाल ने इस अवसर पर कहा कि मेला प्राधिकरण पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के निर्देशन में सांस्कृतिक कार्यक्रमों में स्थानीय दिव्यांगों को अपनी प्रतिभा दिखाने के लिए मंच उपलब्ध करा रहा है। 

      दिव्यांग बच्चों ने दिखाई प्रतिभा

   इस कार्यक्रम में किसी न किसी कारण शारीरिक रूप से कमजोर नन्हें बच्चों व युवाओं ने अपनी प्रस्तुतियां देकर बता दिया कि वे भी किसी से कम नहीं हैं। शा. बालिका छात्रावास की श्रवण बाधित बालिकाओं ने 'मेरा मप्र...' गीत पर शानदार नृत्य किया। मप्र शासन से सम्मानित बालक अंकुर पंडित ने 'मेरा रंग दे वसंती चोला...' पर नृत्य किया। आत्मज्योति स्कूल की दृष्टिबाधित छात्राओं ने 'पीलो, पीलो घांघरो..' पर मनमोहक प्रस्तुति दी। बालक छात्रावास महलगांव के बच्चों ने शिव तांडव प्रस्तुत किया। कुणाल ने 'ओ मैया तूना का ठानी मन में, रामसिया बेच दई री पान में...'  एकल गीत गाया। 

  मूक-बधिर कल्याण संस्था के बच्चों ने 'ये देश है वीर जवानों का...' गीत पेश किया। गरिमा ने 'नैनो वाली ने छोड़ा मन का प्याला...' पर डांस किया। लुईब्रेल आश्रम के बच्चों ने 'हिंद देश के निवासी सभीजान एक हैं...' प्रस्तुत किया तो बालिका छात्रावास की छात्राओं ने स्वच्छता का संदेश देते हुए 'गाड़ी वाला आया घर से कचरा निकाल...' गया। इन बच्चों ने वादन, बुंदेलखंडी गीतों व सामूहिक नृत्य भी पेश किए। कार्यक्रम की निर्णायक कृष्णा अग्रवाल व आशारानी तिवारी थीं।  संचालन शर्मिला शर्मा ने किया।

             इन्हें मिला पुरुस्कार 

 समूह नृत्य में आत्मज्योति विद्यालय प्रथम, सीडब्ल्यूएसएन छात्रावास को द्वितीय व लुईब्रेल आश्रम को तृतीय पुरस्कार मिला। एकल गायन में अंकुर पंडित प्रथम, सपना कुशवाह द्वितीय और गरिमा को तृतीय पुरस्कार प्राप्त हुए। 

  इस अवसर पर डॉ आलोक पुरोहित, ओपी दीक्षित, रामनारायण मिश्रा, राजीव शर्मा, रश्मि पुरोहित, हेमंत द्विवेदी आदि के अलावा भारी संख्या में दर्शकों ने कार्यक्रम का आनंद लिया । 

Popular posts